एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया के क्या है – लक्षण, कारण, इलाज व बचाव के तरीके !

0
650
एलोपेसिया से कैसे करें खुद की रक्षा !

    ENQUIRY FORM

    बालों का झड़ना हर व्यक्ति के लिए एक निराशाजनक और चुनौतीपूर्ण अनुभव हो सकता है, खासकर जब यह आपके आत्मसम्मान और आत्मविश्वास को प्रभावित करने लगें। एंड्रोजेनिक एलोपेसिया, जिसे पुरुष या महिला पैटर्न गंजापन के नाम से भी जाना जाता है, और ये बालों के झड़ने के सबसे आम प्रकारों में से एक माना जाता है। इसलिए आज के लेख को एंड्रोजेनिक एलोपेसिया के कारणों, लक्षणों और उपलब्ध उपचार के विकल्पों का कैसे पता लगा सकते है, इसके बारे में चर्चा करेंगे ;

    क्या है एंड्रोजेनिक एलोपेसिया ?

    • एंड्रोजेनिक एलोपेसिया एक आनुवंशिक स्थिति है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करती है। यह डायहाइड्रोटेस्टोस्टेरोन नामक हार्मोन के कारण होता है, जो बालों के रोमों को सिकोड़ता है और छोटे, पतले बाल बनाता है। 
    • इसके अलावा समय के साथ, बालों के रोम छोटे हो जाते है, जिससे बाल पैदा करने वाले रोम पूरी तरह बंद हो जाते है।
    • एंड्रोजेनिक एलोपेसिया बालों के झड़ने और गंजेपन की समस्या के लिए आम माने जाते है। अगर आप गंजेपन या झड़ते बालों की समस्या से परेशान है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी का चयन जरूर करना चाहिए।

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया के क्या कारण है ?

    • आनुवंशिक और हार्मोनल एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया के मुख्य कारण में शामिल है। 
    • वहीं यह स्थिति वंशानुगत होती है और पीढ़ी-दर-पीढ़ी बढ़ती रहती है। और तो और यह पुरुष हार्मोन डीएचटी से भी जुड़ा हुआ है। डीएचटी टेस्टोस्टेरोन का एक उपोत्पाद है, और यह बालों के रोमों से जुड़ जाता है, जिससे वे सिकुड़ जाते है और अंततः बाल पैदा करना बंद कर देते है।

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया के लक्षण क्या है ?

    • आपको बता दे की एंड्रोजेनिक एलोपेसिया के लक्षण पुरुषों और महिलाओं में अलग-अलग होते है। 
    • पुरुषों की बात करें तो उनमें, यह आमतौर पर सिर के शीर्ष पर बालों के घटने और पतले होने से शुरू होता है। 
    • वहीं महिलाओं में, बालों का झड़ना अधिक व्यापक होता है और आमतौर पर सिर के शीर्ष पर होता है। 

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया का इलाज कैसे किया जाता है ?

    वैसे बालों के झड़ने के इलाज को ढूंढ़ना थोड़ा मुश्किल है, क्युकि बालों के झड़ने से बचाव के लिए आपको खुद से अपने बालों की अच्छे से देखभाल करनी चाहिए, जिससे आपको बालों के झड़ने की समस्या का सामना न करना पड़े, इसके अलावा झड़ते बालों से बचाव के लिए डॉक्टर के द्वारा कुछ उपचार भी बताए गए है, जैसे ;  

    • मिनोक्सिडिल, जिसका उपयोग बालों के झड़ने के इलाज के लिए 30 वर्षों से अधिक समय से किया जा रहा है। वहीं कुछ शोधकर्ताओं ने पाया कि यह बालों के विकास को भी उत्तेजित करता है। 
    • दूसरी दवा, फ़िनास्टराइड है जोकि एक मौखिक दवा है जिसका उपयोग पुरुषों में एंड्रोजेनिक के इलाज के लिए किया जाता है।
    • हेयर ट्रांसप्लांट एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमें सिर के पीछे और किनारों से गंजेपन वाले क्षेत्रों तक बाल ले जाना शामिल है। यह प्रक्रिया प्रत्यारोपित क्षेत्र में बालों के विकास को बहाल करने में प्रभावी माना जाता है। इसलिए जरूरी है की इस सर्जरी का चयन करने से पहले पंजाब में हेयर ट्रांसप्लांट की लागत कितनी है इसके बारे में जरूर जानें।
    • एलएलएलटी (LLLT) एक गैर-आक्रामक उपचार है और एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया में इसका उपयोग किया जाता है, जिसमें आपके सिर को निम्न-स्तरीय लेजर प्रकाश में उजागर करना शामिल है। ऐसा माना जाता है कि यह थेरेपी बालों के रोमों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है और बालों के विकास को प्रोत्साहित करती है।

    आप चाहें तो इन उपचारों को एएसजी हेयर ट्रांसप्लांट सेंटर से भी करवा सकते है। पर इन उपरोक्त उपचारों को अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

    निष्कर्ष :

    बालों का झड़ना कोई बड़ी बात न है आज के समय में, इसलिए जरूरी है की अगर आपको पता चल गया है की आपके बाल झड़ने शुरू हो गए है तो इससे बचाव के लिए आपको डॉक्टर के सम्पर्क में आना चाहिए, वहीं एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया से निजात पाने के लिए जो दवाइयों का सुझाव दिया गया है वो भी आपके बालों के लिए काफी सहायक माना जाता है।

    अक्सर पूछे जानें वाले प्रश्न :

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया कैसे लाखों लोगों के बालों के झड़ने का कारण बनते जा रहा है ? 

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया लोगों के बालों के झड़ने की वजह में शामिल है, क्युकी इसकी वजह से लोगों के बालों के रोम सिकुड़ने लगते है और लोगों में बालों के झड़ने की समस्या नज़र आने लगती है।  

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया में इतनी बुरी तरह जलन और खुजली क्यों होती है ?

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया के मरीजों में अक्सर सिर में या सिर के जिस हिस्से से बाल बहुत ज्यादा झड़ रहें है, वहां पर खुजली और जलन की समस्या आम देखी जाती है और ऐसी अवस्था में अक्सर सहवर्ती सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस (त्वचा की खुजली) की समस्या देखी जाती है।

    एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया का बिगड़ता क्या है ? 

    बालों के एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया का बिगड़ना इस बात पर निर्भर करता है कि जब हमारे द्वारा इसका अच्छे से ध्यान नहीं रखा जाता है या जब बालों के सतह के रोम जरूरत से ज्यादा ही छोटे हो जाते है। जिससे बालों की स्थिति और भी ज्यादा ख़राब हो जाती है।